नवराज न्यूज
चंडीगढ़,लॉकडाउन पार्ट-2 के तीन मई को पूरा होने के बाद भले ही राज्य में इसके बाद कुछ छूट मिल जाए लेकिन शैक्षणिक संस्थान पूरी मई माह में नहीं खोले जाएंगे। यदि स्थिति ठीक रही तो एक जून को स्कूल खोल दिए जाएंगे। लेकिन स्थिति नियंत्रित में नहीं रही तो सेशन एक जुलाई तक जा सकता है। परंतु विभाग ने जून और जुलाई दोनों ही माह से खुलने पर बच्चों का कोर्स पूरा कराने के लिए प्लान ए और बी तैयार कर लिए हैं।

इधर, हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी की ओर से 20 मई तक कक्षा 10वीं का रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा। अभी एक साइंस का पेपर बाकी है, जिसके अंक अन्य विषयों में मिलने वाले अंकों के आधार पर जोड़े जाएंगे। 12वीं कक्षा के परिणाम को लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। इधर, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में भी परीक्षाएं नहीं हुई है। इनका निर्णय केंद्र की गाइड लाइन पर निर्भर करेगा। वहां से मिले दिशा-निर्देंशों के अनुसार ही प्रक्रिया आगे बढ़ेगी।

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से बच्चों की प्रभावित हो रही पढ़ाई को देखते हुए हमने योजना बनाई है। जिसके तहत बच्चों को पूरा कोर्स करा दिया जाएगा। दसवीं का रिजल्ट 20 मई तक घोषित हो जाएगा। सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से मई में स्कूल नहीं खुलेंगे।

प्रदेश में 11 अप्रैल से नया शैक्षणिक सत्र शुरू किया जा चुका है। एजुसेट व अन्य संचार माध्यमों से बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। फिर भी स्कूलों में साल भर में २३४ दिनों तक लगने वाली क्लासों के लिए प्लान तैयार किया गया है।

यदि स्कूल एक जून को शुरू होते हैं तो गर्मी व सर्दी की छुट्टियों खत्म कर दी जाएगी। जबकि हर माह के आखिरी शनिवार को होने वाले अवकाश के दिन भी कक्षाएं लगाकर लॉकडाउन के दिनों की पूर्ति कर ली जाएगी।

यदि मई में स्थिति नहीं सुधरती है तो स्कूल एक जुलाई से शुरू किया जा सकता है। ऐसे में कोर्स पूरा कराने के सर्दियों की 15 दिन की छुट्टियां और माह के आखिरी शनिवार का अवकाश रद्द होगा ही। साथ ही सितंबर-अक्टूबर में मौसम ठीक होने पर रोजाना एक से दो पीरियड अतिरिक्त पढ़ाई कराई जाएगी। इससे बच्चों को करीब 100 घंटे अतिरिक्त मिलेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here