सुखविंदर कौर मरवाहा
चंडीगढ़, 27 अप्रैल:पंजाब के उच्च शिक्षा मंत्री तृप्त रजिन्दर सिंह बजवा के साथ आज कॉलेजों और यूनिवर्सिटियों की प्रतिनिधि करने वाली सांझी एक्शन कमेटी के प्रतिनिधिमंडल की तरफ से मुलाकात की गई। इस मौके पर बाजवा ने कहा कि कोरोनावायरस के कारण उच्च शिक्षा के विद्यार्थियों की पढ़ाई पर कोई प्रभाव नहीं पडऩा चाहिए और कोई भी विद्यार्थी शिक्षा से वंचित नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन अध्यापन प्रणालियों के द्वारा अध्यापन को निर्विघ्न चलाना चाहिए।
इस मौके पर प्रतिनिधिमंडल की तरफ से उच्च शिक्षा मंत्री के आगे अपनी कई मांगं रखी गई जिन संबंधी मौके पर मौजूद उच्च शिक्षा सचिव राहुल भंडारी और डिप्टी डायरैक्टर गुरदर्शन सिंह बराड़ को जायज मंागों का हल निकालने के लिए कार्यवाही करने के लिए हिदायतें जारी की।
उच्च शिक्षा मंत्री ने पोस्ट मैट्रिक स्कॉलशिप स्कीम के ३०० करोड़ रुपए की राशि सामाजिक सुरक्षा विभाग से जारी करवाने के लिए कार्यवाही करने के साथ साथ सेल्फ फाईनांसड बी.एड कॉलेजों की बकाया बनती फीस जारी करने के लिए कार्यवाही करने, विद्यार्थियों से बनती फीस लेने के लिए हल निकालने और एंडोमेंट फंड पर अदारों को लोन की मंजूरी देने की माँग संबंधी अधिकारियों को विचार करने के लिए कहा।
उच्च शिक्षा मंत्री के साथ मुलाकात करने के लिए पहुँचे प्रतिनिधिमंडल में चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के चांसलर सतनाम सिंह संधू बी.एड फैडरेशन के प्रधान जगजीत सिंह, पंजाब अनएडिड कॉलेजज़ ऐसोसीएशन (पीयूसीए) के प्रधान डा. अंशू कटारिया और निर्मल सिंह ई.टी.टी फैडरेशन भी मीटिंग के दौरान उपस्थित थे।

प्रतिनिधिमंडल ने इस मौके पर पंजाब में कोविड -१९ के फैलाव पर काबू पाने के लिए पंजाब सरकार की तरफ से समय पर उठाये गये कदमों की सराहना की। उन्होंने कहा कि पंजाब के सभी कॉलेजों और यूनिवर्सिटियों के विद्यार्थी, स्टाफ और प्रबंधक इस संकटकालीन स्थिति में सहायता करने के लिए सरकार के साथ हैं। पंजाब की शिक्षा संस्थाएं जरूरतमंद लोगों को भोजन और दवाएँ प्रदान करने में नियमित रूप में सहायता कर रही हैं। हरेक कॉलेज संभावित योजना के अंतर्गत अपने होस्टलों को आईसोलेशन वार्डों में तबदील करने के लिए यत्नशील है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here