नन्द सिंगला
रायपुररानी/पंचकूला :विश्व विख्यात ज्योतिष आचार्य मदन गुप्ता सपाटू ने दैनिक नवराज से एक विशेष भेंट वार्ता में बताया कि अहोई अष्टमी व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष कीअष्टमी तिथि को रखा जाता है. इस दिन अहोईमाता (पार्वती) की पूजा की जाती है. इस दिनमहिलाएं व्रत रखकर अपने संतान की रक्षा औरदीर्घायु के लिए प्रार्थना करती हैं. जिन लोगों कोसंतान नहीं हो पा रही हो उनके लिए ये व्रत विशेषहै. जिनकी संतान दीर्घायु न होती हो , या गर्भ में हीनष्ट हो जाती हो , उनके लिए भी ये व्रत शुभकारीहोता है. सामान्यतः इस दिन विशेष प्रयोग करने सेसंतान की उन्नति और कल्याण भी होता है. येउपवास आयुकारक और सौभाग्यकारक होता है.
क्या है अहोई अष्टमी ?
करवा चौथ के चार दिन बाद और दीपावली से एक सप्ताह पूर्व पड़ने वाला यह व्रत, पुत्रवती महिलाएं ,पुत्रों के कल्याण,दीर्घायु, सुख समृद्धि के लिए निर्जल करती हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में सायंकाल घर की दीवार पर 8 कोनों वाली एक पुतली बनाई जाती है। इसके साथ ही स्याहू माता अर्थात सेई तथा उसके बच्चों के भी चित्र बनाए जाते हैं। आप अहोई माता का कैलेंडर दीवार पर लगा सकते हैं।पूजा से पूर्व चांदी का पैंडल बनवा कर चित्र पर चढ़ाया जाता है और दीवाली के बाद अहोई माता की आरती करके उतार लिया जाता है और अगले साल के लिए रख लिया जाता है। व्रत रखने वाली महिला की जितनी संतानें हों उतने मोती इसमें पिरो दिए जाते हैं। जिसके यहां नवजात शिशु हुआ हो या पुत्र का विवाह हुआ हो , उसे अहोई माता का उजमन अवश्य करना चाहिए।
व्रत कब रखें ?
पंचांगानुसार बुधवार को प्रातः सप्तमी 11बजकर 10 मिनट पर समाप्त होगी और अष्टमी आरंभ होकर गुरु वार की प्रातः 9 बजकर 10 मिनट तक रहेगी। इस प्रकार अहोई का व्रत बुधवार ,31अक्तूबर को अधिक सार्थक होगा। इस सायं चंद्र बहुत देर से उदय होगा अतः सूर्यास्त के बाद जब तारे दिखते हैं तभी पूजा आरंभ की जाती है।
अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त 2018

पूजा समय – सांय 17:45 से 19:02 तक ( 31अक्तूबर 2018)

तारों के दिखने का समय – 18:12 बजे

अष्टमी तिथि प्रारम्भ – 11:10 बजे ( 31 अक्तूबर2018)

अष्टमी तिथि समाप्त – 09:10 बजे ( 01 नवंबर2018)
विधि
एक थाली में सात जगह 4-4 पूरियां रखकर उस पर थेाड़ा थोड़ा हलवा रखें। चंद्र को अर्ध्य दें । एक साड़ी ,एक ब्लाउज,व कुछ राशि इस थाली के चारों ओर घुमा के , सास या समकक्ष पद की किसी महिला को चरण छूकर उन्हें दे दें।
वर्तमान युग में जब पुत्र तथा पुत्री में कोई भेदभाव नहीं रखा जाता , यह व्रत सभी संतानों अर्थात पुत्रियों की दीर्घायु के लिए भी रखा जाता है। पंजाब ,हरियाणा व हिमाचल में इसे झकरियां भी कहा जाता है।
कैसे रखें इस दिनउपवास \
– प्रातः स्नान करके अहोई की पूजा का संकल्प लें
– अहोई माता की आकृति गेरू या लाल रंग सेदीवार पर बनाएं
– सूर्यास्त के बाद तारे निकलने पर पूजन आरम्भकरें
– पूजा की सामग्री में एक चांदी या सफ़ेद धातु कीअहोई चांदी की मोती की माला जल से भरा हुआकलश दूध-भात हलवा और पुष्प दीप आदिरक्खें
– पहले अहोई माता की रोल पुष्प दीप से पूजाकरें उन्हें दूध भात अर्पित करें
– फिर हाथ में गेंहू के सात दाने और कुछ दक्षिणा(बयाना लेकर अहोई की कथा सुनें- कथा के बाद माला गले में पहन लें और गेंहू केदाने तथा बयाना सासु माँ को देकर उनकाआशीर्वाद लें
– अब चन्द्रमा को अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करें
– चांदी की माला को दीवाली के दिन निकाले औरजल के छींटे देकर सुरक्षित रख लें
अहोई अष्टमी व्रत के विशेष प्रयोग
अगर संतान की शिक्षा, करियर, रोजगार में बाधाआ रही हो
– अहोई माता को पूजन के दौरान दूध-भात औरलाल फूल अर्पित करें इसके बाद लाल फूल हाथमें लेकर संतान के करियर और शिक्षा की प्रार्थनाकरे संतान को अपने हाथों से दूध भातखिलाएं फिर लाल फूल अपनी संतान के हाथों मेंदे दें और फूल को सुरक्षित रखने को कहें
अगर संतान के वैवाहिक या पारिवारिक जीवन मेंबाधा आ रही हो अहोई माता को गुड का भोग लगायें और एकचांदी की चेन अर्पित करें
– माँ पार्वती के मंत्र – “ॐ ह्रीं उमाये नमः” 108 बारजाप करें
– संतान को गुड खिलाएं और अपने हाथों से उसकेगले में चेन पहनाएं उसके सर पर हाथ रखकरआशीर्वाद दें अगर संतान को संतान नहीं हो पा रही हो अहोईमाता और शिव जी को दूध भात का भोग लगायें
– चांदी की नौ मोतियाँ लेकर लाल धागे में पिरो करमाला बनायें अहोई माता को माला अर्पित करेंऔर संतान को संतान प्राप्ति की प्रार्थना करें
– पूजा के उपरान्त अपनी संतान और उसके जीवनसाथी को दूध भात खिलाएं
अगर बेटे को संतान नहीं हो रही हो तो बहूको और बेटी को संतान नहीं हो पा रही हो तो बेटीको माला धारण करवाएं
अहोई अष्टमी व्रत कथा
प्राचीन काल में एक साहुकार था, जिसके सात बेटेऔर सात बहुएं थी| इस साहुकार की एक बेटी भीथी जो दीपावली में ससुराल से मायके आई थी|दीपावली पर घर को लीपने के लिए सातों बहुएंमिट्टी लाने जंगल में गई तो ननद भी उनके साथ होली| साहुकार की बेटी जहां मिट्टी काट रही थी उसस्थान पर स्याहु (साही) अपने साथ बेटों से साथरहती थी| मिट्टी काटते हुए ग़लती से साहूकार कीबेटी की खुरपी के चोट से स्याहू का एक बच्चा मरगया| स्याहू इस पर क्रोधित होकर बोली मैं तुम्हारीकोख बांधूंगी|
स्याहू के वचन सुनकर साहूकार की बेटी अपनीसातों भाभीयों से एक एक कर विनती करती हैं किवह उसके बदले अपनी कोख बंधवा लें| सबसेछोटी भाभी ननद के बदले अपनी कोख बंधवानेके लिए तैयार हो जाती है| इसके बाद छोटी भाभीके जो भी बच्चे होते हैं वे सात दिन बाद मर जातेहैं| सात पुत्रों की इस प्रकार मृत्यु होने के बाद उसनेपंडित को बुलवाकर इसका कारण पूछा| पंडित नेसुरही गाय की सेवा करने की सलाह दी|
सुरही सेवा से प्रसन्न होती है और उसे स्याहु केपास ले जाती है| रास्ते में थक जाने पर दोनोंआराम करने लगते हैं अचानक साहुकार की छोटीबहू की नज़र एक ओर जाती हैं, वह देखती है किएक सांप गरूड़ पंखनी के बच्चे को डंसने जा रहाहै और वह सांप को मार देती है| इतने में गरूड़पंखनी वहां आ जाती है और खून बिखरा हुआदेखकर उसे लगता है कि छोटी बहु ने उसके बच्चेके मार दिया है इस पर वह छोटी बहू को चोंचमारना शुरू कर देती है| छोटी बहू इस पर कहती हैकि उसने तो उसके बच्चे की जान बचाई है| गरूड़पंखनी इस पर खुश होती है और सुरही सहित उन्हेंस्याहु के पास पहुंचा देती है|
वहां स्याहु छोटी बहू की सेवा से प्रसन्न होकर उसेसात पुत्र और सात बहु होने का अशीर्वाद देती है|स्याहु के आशीर्वाद से छोटी बहु का घर पुत्र औरपुत्र वधुओं से हरा भरा हो जाता है| अहोई का अर्थएक प्रकार से यह भी होता है “अनहोनी से बचाना” जैसे साहुकार की छोटी बहू ने कर दिखाया था|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here